04 October 2019

लड़कियों को क्यों पढ़ना चाहिए?

By स्पार्क प्रियंका

आज के इस दौर में शिक्षा अर्थात एजुकेशन यदि किसी व्यक्ति के अंदर विराजमान है तो वह व्यक्ति महान व्यक्ति बन सकता है। महान व्यक्ति के अंदर अच्छी इनसानियत, उच्च विचार आदि को शामिल किया जा सकता है, जिससे वह महान व्यक्ति कहलाता है। आज के युवा पीढ़ी में लडकियां यानी नारी जाति की शिक्षा को अवश्य ध्यान में रखना चाहिए। नारी को शिक्षित होने से हमारा देश तरक्की के रास्ते पर होगा, क्योंकि कहा गया है, "नारी है तो कल है’’।

एक सुलझी, समझदार नारी का प्रभाव यदि हमारे आने वाले जनरेशन पर पढ़ता है तो इससे अच्छी बात क्या हो सकती है भला। आज के इस दौर में शिक्षा प्रणाली का मजबूत होना अत्यधिक आवश्यक है, फिर चाहे वह लडकों की शिक्षा का विषय हो या फिर लड़कियों का, दोनों ही आवश्यक हैं। भारत सरकार ने शिक्षा की महंगाई को काफी हद तक कम करने की कोशिशें की हैं, इसलिए एक लडकी के माता-पिता को भी समझना जरुरी है कि अपनी बच्चियों की शिक्षा के विषय में विचार अवश्य करें।

आजकल के अपराधों में लड़कियों के संबंध में बढ़ोतरी कुछ ज़्यादा होती जा रही है। इसलिए उनका शिक्षण जरुरी है। यदि एक नारी को शिक्षित किया जा रहा है तो इसका अर्थ यह है कि वह नारी दो घर को शिक्षित कर सकती है। उसी प्रकार यदि इस विषय पर गहन अध्ययन करें तो हम पायेंगे कि हमारा देश विकासशील देशों मे शामिल हो सकता है।

हमारा देश आज भी, लड़कियों की शिक्षा के मामले में बहुत पीछे है। हमारे ही देश के  कुछ राज्यों में आज भी लड़कियों की शिक्षा को लेकर स्थिति चिंता जनक है। यह एक गम्भीर समस्या है हमारे देश की महिलाओ के लिए। किसी ने कहा है कि अगर हमें किसी देश का विकास जानना हो तो सबसे पहले उस देश की महिलायें कितनी शिक्षित हैं, उससे उस देश का विकास पता चल जाएगा। आज के इस दौर में अगर लड़की को शिक्षा नहीं मिल पाती है तो अधिकतर यह मान लिजिए कि उस समाज में बहुत ही कम विकास हुआ है।

इस युग में हमारे समाज के युवक भी लड़कियों व महिलाओं को सबसे आगे रख रहे हैं। क्यों? क्यूंकि लड़कियां और महिलाएं हमारे समाज का अहम हिस्सा हैं, इनके बिना समाज अधूरा है।